Home POEM इश्क़ में ऐसी मेरी हलात है

इश्क़ में ऐसी मेरी हलात है

by SATYADEO KUMAR
0 comment

सत्यदेव कुमार

इश्क़ में ऐसी मेरी हलात है
मेरा सभी कुछ मेरे पास है

मुस्कुराने के हीं तो बात है
उसके हँसी से मेरे इश्क़ की शुरूआत है
थोड़े उनके नखरों की बरसात है
और हम भीग रहें उनके गली में
जहाँ के सपनों में गुजरती मेरी रात है
इश्क़ में मेरी ऐसी हालत है …..

यूँही कट रही जिंदगी में ।
मेरा सभी कुछ मेरे पास है
वो रात ,वो बात,वो नखरें ,और वो शुरुआत
इश्क़ में इतनी कहाँ औकात है
जो मुझ से छीन ले जाता जो मेरी एहसास है
मेरा सभी कुछ मेरे पास है

अब तो लोग ताने भी दिया करते हैं
इश्क़ का भी कोई औकात है
और तब भी हम मुस्कुराकर कहते
ये भी कोई जज्बात है
मेरा तो सभी कुछ मेरे पास है
इश्क़ में ऐसी मेरी हलात है ……..

You may also like

Leave a Comment