Home SHAYARI कागजों पे लिपट के रह गई है मोहब्बत

कागजों पे लिपट के रह गई है मोहब्बत

by SATYADEO KUMAR
0 comment

सत्यदेव कुमार

कागजों पे लिपट के रह गई है मोहब्बत
दिखावट और लिखावट में रह गई है मोहब्बत
आज -कल सज्ज -धज्ज के चली खुद को सजाने
पर रास्ते में ही बिखरकर रह गई है मोहब्बत

You may also like

Leave a Comment